Not found

झारखंड).राज्यसभा चुनाव-2016 में धांधली के आरोप में विशेष शाखा के एडीजी अनुराग गुप्ता और सीएम के तत्कालीन राजनीतिक सलाहकार (वर्तमान में प्रेस सलाहकार) अजय कुमार के खिलाफ शुक्रवार को जगन्नाथपुर थाने में केस दर्ज किया गया। गृह विभाग के अवर सचिव अविनाश चंद्र ठाकुर के आवेदन पर कांड संख्या 154/18 में इन दोनों के खिलाफ आईपीसी की धारा 171ई और 171एफ के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। गृह विभाग की ओर से निर्वाचन आयोग द्वारा 9 मार्च को भेजे गए पत्र और झाविमो सुप्रीमो द्वारा आयोग से की गई शिकायत की कॉपी और सीडी भी पुलिस को दी गई है।

 

दोनों धाराएं जमानती

 

- मुख्यमंत्री ने 26 मार्च को एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया था। विभागीय कार्यवाही चलाने की भी बात कही थी। इससे पहले निर्वाचन आयोग ने सरकार से सात दिन में केस दर्ज करने को कहा था। मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी व मुख्य निर्वाचन अधिकारी एल ख्यांग्ते को पत्र भेजा था।

 

- निर्वाचन आयोग व गृह विभाग ने धारा 171 बी व 171 सी के तहत केस करने को लिखा था। पर केस धारा 171 ई व 171 एफ के तहत दर्ज हुआ।

 

धारा 171 बी और 171 सी

चुनाव में हस्तक्षेप, घूस लेने-देने, वोटर को प्रभावित करने के मामले में इन धाराओं में कार्रवाई होती है। एक साल की सजा और जुर्माने का भी प्रावधान है।

 

धारा 171 ई व 171 एफ

मतदाता को प्रभावित करने के लिए प्रलोभन देना और पद का दुरुपयोग करना। आरोप सिद्ध होने पर एक साल सजा और जुर्माने का प्रावधान है।

 

सीईओ ने भी कर ली थी एफआईआर कराने की तैयारी

 

निर्वाचन आयोग ने राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी (सीईओ) एल ख्यांगते को अनुराग गुप्ता और अजय कुमार के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने का निर्देश दिया था। सीईओ कार्यालय ने एफआईआर का ड्राफ्ट फाइनल कर लिया था। इसी बीच सीएम ने गृह विभाग को केस दर्ज कराने का आदेश दे दिया। ख्यांगते ने कहा कि अगर इसमें विलंब होता तो मेरी ओर से एफआईआर दर्ज कराई जाती।

मूवी मसाला

फैशन

हेल्थ

Slider

क्राइम

मेडिकल

फोटो गैलरी

टूरिजम

सर्वे

Slider

एडिटोरियल

जोक्स